Tuesday, November 29, 2022
ಖಡ್ಗ ಹಿಡಿದು ಶ್ರದ್ಧಾ ಹಂತಕ ಅಫ್ತಾಬ್ ಮೇಲೆ ದಾಳಿಗೆ ಯತ್ನ; ಪೊಲೀಸ್‌ ವಾಹನದ ಮೇಲೆ ಮುಗಿಬಿದ್ದ ಗುಂಪು!-ಮುಸ್ಲಿಂ ವಿದ್ಯಾರ್ಥಿಯನ್ನು ಟೆರರಿಸ್ಟ್​​ಗೆ ಹೋಲಿಸಿದ್ದ ಪ್ರೊಫೆಸರ್​​ ಅಮಾನತು..-ಪಾನಿಪುರಿ ತಿನ್ನುತ್ತಿದ್ದ ಅಕ್ಕತಂಗಿಯರ ಮೇಲೆ ಹರಿದ ಕಾರು: ತಂಗಿ ಸಾವು-ಒಂದೇ ಓವರ್​ನಲ್ಲಿ 7 ಸಿಕ್ಸರ್..! 16 ಸಿಕ್ಸರ್, 10 ಬೌಂಡರಿ ಸಹಿತ ಸ್ಫೋಟಕ ದ್ವಿಶತಕ ಸಿಡಿಸಿದ ರುತುರಾಜ್..!-ನೆನಪಿರಲಿ ಪ್ರೇಮ್ ಪುತ್ರಿ ನಾಯಕಿಯಾಗಿ ಚಿತ್ರರಂಗಕ್ಕೆ ಎಂಟ್ರಿ: ಹೀರೋ ಯಾರು?-ನಶೆಯಲ್ಲಿ ಮಲಗಿದ್ದವನ ಜೇಬಿಂದ ₹70 ಸಾವಿರ ಎಗರಿಸಿದ ಚೋರರು!-ಹಾರ್ನ್ ಮಾಡಿ ದಾರಿ ಕೇಳಿದ್ದಕ್ಕೇ ಚಾಲಕನಿಗೆ ಚಾಕು ಇರಿದ ಪುಂಡರು!-ದೊಡ್ಮನೆಯಲ್ಲಿ ಬ್ರೇಕಪ್ ಮಾಡಿಕೊಂಡ ರಾಕೇಶ್ – ಅಮೂಲ್ಯ-50 ಕೋಟಿ ವಾಟ್ಸಪ್ ಬಳಕೆದಾರರ ಮಾಹಿತಿ ಸೋರಿಕೆ – ಭಾರೀ ಮೊತ್ತಕ್ಕೆ ಸೇಲ್!-ವಿದ್ಯುತ್ ಟವರ್‌ನಲ್ಲಿ ಸಿಕ್ಕಿಹಾಕಿಕೊಂಡ ಮಿನಿ ವಿಮಾನ
Previous
Next

Jasprit Bumrah: जसप्रीत बुमराह चोट के बाद कब उतरेंगे मैच में? हार्दिक पंड्या बोले- इस दिग्गज तेज गेंदबाज को देना होगा पूरा समय

Twitter
Facebook
LinkedIn
WhatsApp

न्यूजीलैंड (New Zealand) की सबसे बड़ी झील का नाम है लेक ताउपो (Lake Taupo). इसके नीचे दुनिया का सबसे भयानक विस्फोट करने वाला ज्वालामुखी है. जो पिछले कई महीनों

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी20 इंटरनेशनल के लिए जसप्रीत बुमराह को प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किए जाने का खामियाजा टीम इंडिया को भुगतना पड़ा है. पर भारतीय टीम उन्हें मैदान पर उतारने की जल्दबाजी नहीं करेगी. मैच के बाद स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने कहा कि टीम इस दिग्गज तेज गेंदबाज पर ज्यादा दबाव नहीं डालेगी और उन्हें चोट से उबरकर वापसी करने के लिए पूरा समय देगी.

मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के पहले मैच में बुमराह की काफी कमी खली. मेहमान टीम ने 209 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए आसानी से 4 विकेट से जीत दर्ज की और तीन मैच की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली. अक्षर पटेल को छोड़कर सभी भारतीय गेंदबाजों ने प्रति ओवर 11 रन से ज्यादा की दर से रन लुटाए.

से लगातार कांप रहा है. गुर्रा रहा है. और यह गुर्राहट खत्म नहीं हो रही है. खतरे की आशंका को लेकर इस खूबसूरत देश के वैज्ञानिकों अलर्ट का स्तर बढ़ा दिया है. यह ज्वालामुखी 1800 साल पहले फटा था, जो धरती के पांच हजार साल के इतिहास का सबसे बड़ा विस्फोट था. 

जियोलॉजिकल एजेंसी GeoNet ने एक बयान जारी करके कहा है कि लेक ताउपो के नीचे पिछले कुछ दिनों में 700 छोटे भूकंप महसूस किए गए हैं. यह झील एक ज्वालामुखी के काल्डेरा पर मौजूद है. ज्वालामुखी को लेकर छह अलर्ट लेवल होते हैं. पहला 0 यानी शांत है. आखिरी 6 यानी खतरनाक विस्फोट. हमने फिलहाल इसे 2 का लेवल दिया है. क्योंकि ज्वालामुखी किसी भी लेवल पर फट सकता है. अलर्ट लेवल किसी भी समय बदल सकता है. 

इससे पहले लेक ताउपो के नीचे मौजूद ज्वालामुखी ओरुआनुई ज्वालामुखी (Oruanui Supervolcano) 200 ईसापूर्व के आसपास फटा था. इसकी वजह से न्यूजीलैंड के मध्य और उत्तरी द्वीप पर भयानक बर्बादी हुई थी. कई सालों तक इंसानी बस्तियों पर आसमान से राख गिरती रही थी. क्योंकि इसने 100 क्यूबिक किलोमीटर राख वायुमंडल में फेंका था. जो धीरे-धीरे जमीन पर गिरती रही. जियोनेट ने बताया यह पहली बार हुआ है कि जब हम इस ज्वालामुखी का अलर्ट लेवल बढ़ा रहे हैं. क्योंकि यह कई महीनों से खतरनाक स्थिति में कांप रहा है. गुर्रा रहा है. यानी इसके नीचे कुछ हो रहा है. 

हमारा समर्थन करने के लिए यहां क्लिक करें

इससे जुड़ी अन्य खबरें

राष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय