ಬುಧವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 21, 2024
ಉಡುಪಿ : ಗಂಗೊಳ್ಳಿ ಬೋಟ್ ಅಗ್ನಿ ದುರಂತ; ರಾಜ್ಯ ಸರ್ಕಾರದಿಂದ 1.75 ಕೋ. ಪರಿಹಾರ ಮಂಜೂರು..!-ಮೆಫೆಡ್ರೋನ್‌ ಎಂಬ 2,500 ಕೋಟಿ ರೂ. ಮೌಲ್ಯದ ಮಾದಕವಸ್ತು ಜಪ್ತಿ..!-ಮಕ್ಕಳಿಗೆ ಮೊಟ್ಟೆ ಮತ್ತು ಹಾಲಿನ ಜೊತೆ ವಾರದಲ್ಲಿ 3 ದಿನ ರಾಗಿಮಾಲ್ಟ್: ಮಧು ಬಂಗಾರಪ್ಪ..!-ಸುಪ್ರೀಂ ಕೋರ್ಟ್‌ನ ಹಿರಿಯ ವಕೀಲ ಮತ್ತು ಸಂವಿಧಾನ ತಜ್ಞ ಫಾಲಿ ಎಸ್. ನಾರಿಮನ್ ನಿಧನ..!-ದೆಹಲಿ ಗಡಿಯಲ್ಲಿ 14 ಸಾವಿರ ರೈತರು ಮತ್ತೆ ಪ್ರತಿಭಟನೆ..!-ಆಟೋಗೆ ಟ್ರಕ್‌ ಡಿಕ್ಕಿಯಾಗಿ ಅಪ್ಪಚ್ಚಿ; ಸ್ಥಳದಲ್ಲೇ 9 ಮಂದಿ ದುರ್ಮರಣ...!-ಪುತ್ತೂರು : ನಿಂತಿದ್ದ ಕಾರಿನಲ್ಲಿ ತಲವಾರು ಪತ್ತೆ: ನಾಲ್ವರ ಸೆರೆ-Sonia Gandhi: ರಾಜ್ಯಸಭೆಗೆ ಸೋನಿಯಾ ಗಾಂಧಿ ಅವಿರೋಧವಾಗಿ ಆಯ್ಕೆ!-Gold Rate Today : ಇಳಿಕೆಯತ್ತ ಬಂಗಾರದ ಬೆಲೆ ; ಇಲ್ಲಿದೆ ಇಂದಿನ ಚಿನ್ನ-ಬೆಳ್ಳಿಯ ದರದ ಅಪ್ಡೇಟ್ಸ್-ವಿರಾಟ್ ಕೊಹ್ಲಿ - ಅನುಷ್ಕಾ ಶರ್ಮಾಗೆ ಎರಡನೇ ಗಂಡು ಮಗು ; ಹೆಸರೇನು ಗೊತ್ತೆ!
Previous slide
Next slide

Select Lanuage:

'मुझे काली बिल्ली कहते थे', Priyanka Chopra ने खोली बॉलीवुड की पोल, सालों बाद छलका दर्द, बोलीं- लगता था मैं सुंदर नहीं

Twitter
Facebook
LinkedIn
WhatsApp
‘मुझे काली बिल्ली कहते थे’, Priyanka Chopra ने खोली बॉलीवुड की पोल, सालों बाद छलका दर्द, बोलीं- लगता था मैं सुंदर नहीं

प्रियंका चोपड़ा आज ग्लोबल आइकॉन बन गई हैं. लाखों दिलों की धड़कन और करोड़ों की इंस्पिरेशन प्रियंका ने कड़ी मेहनत से बड़ा मुकाम हासिल किया है. लेकिन एक समय था जब बॉलीवुड इंडस्ट्री में उनके साथ बुरा व्यवहार हुआ करता था. एक्ट्रेस ने अपना एक्टिंग डेब्यू तमिल फिल्म Thamizhan (2002) से किया था. इसके बाद उन्हें बॉलीवुड की फिल्मोंं में देखा गया. अब अपने नए इंटरव्यू में प्रियंका चोपड़ा ने बताया है कि कैसे शुरुआती दिनों में उन्हें अपनी स्किन के कलर की वजह से भेदभाव झेलना पड़ा था.


हाल ही में बीबीसी की ‘100 वीमन’ लिस्ट में प्रियंका चोपड़ा ने अपना नाम दर्ज करवाया. वो साल 2022 की सबसे प्रभावशाली महिलाओं में से एक बनी हैं. ऐसे में बीबीसी से प्रियंका चोपड़ा ने बॉलीवुड और उसमें होने वाले रंगभेद को लेकर बात की. उन्होंने बताया, ‘मुझे काली बिल्ली और सांवली कहा जाता था. मेरा मतलब है ‘सांवली’ का क्या होता है? वो भी उस देश में जिसमें सभी ब्राउन हैं. मुझे लगता था कि मैं सुंदर नहीं हूं. मैं सोचती थी कि मुझे दूसरों से ज्यादा कड़ी मेहनत करनी होगी, जबकि मुझे विश्वास था कि मैं अपने से हल्के स्किन कलर वाले एक्टर्स से ज्यादा टैलेंटेड थी. लेकिन उस समय मुझे लगता था कि ये सब ठीक है, क्योंकि यही नॉर्मल माना जाता था.’

हमारा समर्थन करने के लिए यहां क्लिक करें

इससे जुड़ी अन्य खबरें

राष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय